Monday, January 5, 2015

सिडनी विजय कर कोहली खत्म करेंगे 37 साल का सूखा?


जनवरी 2004 में भारत ने पहली पारी में इसी ग्राउंड पर बनाए थे सात विकेट पर 705 रन। 
न्यू साउथ वेल्स (सिडनी)। भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में गवां चुकी है। चार मैचों की सीरीज में भारत अभी मेजबानों से 2-0 से पीछे है और अभी टीम को जीत का खाता खोलना बाकी है, जबकि तीसरा टेस्ट ड्रॉ रहा था।

भारत ने इस मैदान पर एकमात्र जीत 1978 में दर्ज की थी। प्रसन्ना, बेदी और चंद्रशेखर की स्पिन तिकड़ी ने ऑस्ट्रेलिया को एक पारी और दो रनों से हार पर मजबूर किया था। उसके बाद से भारतीय टीम इस मैदान पर जीत का स्वाद नहीं चख सकी है।

भारत के सबसे सफलतम टेस्ट कप्तान धोनी के सन्यास लेने के बाद नए साल में नए टेस्ट कप्तान बने विराट कोहली के सामने कई चुनौतियां होंगी। टीम इंडिया अपने नए कप्तान विराट कोहली के नेतृत्व में सिडनी क्रिकेट मैदान पर हार की हैट्रिक से बचना चाहेगी। इस मैदान पर भारत 2008 और 2012 में अपने पिछले दो मुकाबले गंवा चुका है। भारत और ऑस्ट्रेलिया की टीमें छह जनवरी से एक बार पिर यहां आमने-सामने होंगी। यह दोनों टीमें के बीच 11वां मुकाबला होगा। इनमें से पांच में ऑस्ट्रेलिया को जीत मिली है, जबकि एक में भारत जीता है। चार मुकाबले बराबरी पर छूटे हैं।

सिडनी में मौजूदा भारतीय टीम के चार खिलाड़ी ही खेले हैं। कप्तान विराट कोहली, इशांत शर्मा, उमेश यादव और रविचंद्रन अश्विन 2012 में इस मैदान पर हुए टेस्ट में टीम का हिस्सा थे। इशांत शर्मा को दो मैच खेलने का अनुभव है। वे 2008 में भी टीम का हिस्सा थे।

रिकॉर्डों की बात करें तो सिडनी मैदान पर मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के बल्ले ने जमकर रन बरसाए हैं। उनके रिकॉर्ड के आगे ऑस्ट्रेलिया के महान बल्लेबाज डॉन ब्रैडमैन, पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग और माइकल क्लार्क भी फेल हैं।

157 के एवरेज से बनाए हैं रन
मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने 1992 और 2012 के बीच पांच मैच खेले। इस दौरान उन्होंने 157 की औसत से 9 पारियों में तीन शतक और दो अर्धशतक की बदौलत 785 रन बनाए हैं। उनका बेस्ट स्कोर नाबाद 241 रन है। यह सचिन के टेस्ट करियर की भी बेस्ट पारी है। सिडनी में ब्रैडमैन का 58.58 (703 रन), रिकी पोंटिंग का 67.27 (1480 रन) और माइकल क्लार्क का एवरेज 47.68 (763 रन) रहा है।

माइकल क्लार्क का जवाब नहीं
इस मैदान पर एक पारी में सर्वाधिक स्कोर बनाने का रिकॉर्ड माइकल क्लार्क के नाम है। उन्होंने नाबाद 329 रन बनाए हैं।

इन भारतीयों ने भी बरसाये रन
भारतीय बल्लेबाजों के नाम इस मैदान पर दूसरे और चौथे विकेट की साझेदारी का रिकॉर्ड है। सुनील गावसकर और मोहिंदर अमरनाथ ने 1986 में दूसरे विकेट के लिए 224 रन जोड़े थे। इसके अलावा सचिन तेंडुलकर और वीवीएस लक्ष्मण ने 2004 में चौथे विकेट के लिए 353 रन की साझेदारी की थी।

1986 में 600 रन बनाए
जनवरी, 1986 में गावसकर (172) और अमरनाथ (138) ने 191 रनों के कुल योग पर के. श्रीकांत (116) का विकेट गिरने के बाद भारतीय स्कोर को 415 रनों तक पहुंचाया था। भारत ने उस मैच में चार विकेट पर 600 (घोषित) रन बनाए थे।

सिडनी में भारत का उच्च स्कोर
जनवरी, 2004 को शुरू हुए चौथे टेस्ट में सचिन (241) और लक्ष्मण (178) ने 194 रनों पर तीन विकेट गिरने के बाद भारतीय पारी को 547 रनों तक पहुंचाया था। सचिन ने इस मैच में अपना सर्वोच्च टेस्ट स्कोर खड़ा किया था। भारत ने सात विकेट पर 705 रन बनाकर पारी घोषित कर दी थी।

फोटो- ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर अनुष्का शर्मा संग कई बार नजर आए विराट कोहली। इस बार उनके साथ टीम इंडिया के डायरेक्टर रवि शास्त्री भी नजर आये।