Wednesday, June 24, 2015

IND vs BAN : सब खेले खूब खेले


 
तीन मैचों की वनडे सीरीज में 2-0 से गंवाने के बाद तीसरे मैच में भारतीय बल्लेबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया। सभी बल्लेबाजों ने संभलकर छूते हुए दहाई के आंकड़े को छुआ। टीम ने निर्धारित 50 ओवरों में 6 विकेट के नुकसान पर 317 रन बनाए। भारत की तरफ से शिखर धवन ने सबसे अधिक 75 रन बनाए। उनके अलावा कप्तान धोनी ने 69, अंबाती रायुडु ने 44, सुरेश रैना ने तेजतर्रार 38,  रोहित शर्मा ने 29, विराट कोहली ने 25 रन बनाए, जबकि स्टुअर्ट बिन्नी 17 रन और अक्षर पटेल 10 रन बनाकर नाबाद रहे।

बांग्लादेश की तरफ से मशर्फे मुर्तजा ने 3, पिछले दो मैचों के हीरो मुस्तफिजुर ने 2 और शाकिब-उल-हसन ने 1 भारतीय खिलाड़ी को पवेलियन की राह दिखाई।
तीसरे मैच का दबाव भारतीय बल्लेबाजों पर इतना था कि सभी ने संभलकर खेलते हुए दहाई का आंकड़ा छुआ।
 
रैना ने खेली आतिशी पारी
अंबाती रायुडु के आउट होते ही सुरेश रैना ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए 21 गेंदों पर 3 चौकों और 2 छक्कों की मदद से शानदार 38 रन बनाए। वो 49वें ओवर में रनगति बढ़ाने के प्रयास में सीरीज में तीसरी बार मुस्तफिजुर के शिकार बने।
मौके के हिसाब से खेल नहीं सके बिन्नी
भारतीय टीम में आलराउंडर के तौर पर शामिल स्टुअर्ट बिन्नी अंत तक नाबाद तो रहे लेकिन जरूरत के हिसाब से खेल नहीं सके। उन्होंने 11 गेंदों पर 2 चौकों की मदद से 17 बनाए। हालांकि ये दोनों चौके उन्होंने जानबूझकर नहीं मारे थे। आखिर ओवर में जहां अक्षर पटेल ने छक्का जड़ा, वहीं बिन्नी अंतिम गेंद पर असहाय नजर आए और कोई भी रन नहीं बना सके।
 
गलत फैसले का शिकार हुए रायुडु
44 रनों के निजी स्कोर पर लय में खेल रहे भारतीय बल्लेबाज अंबाती रायुडु उस समय अंपायर के गलत फैसले का शिकार हो गए, जब वह कीपर के ऊपर से शॉट खेलना चाह रहे थे। गेंद उनके पैड पर लगी, लेकिन अंपायर ने उन्हें तुरंत ही आउट दे दिया, जबकि साफ दिख रहा था कि गेंद ने उनके बल्ले को कहीं छुआ तक नहीं। अंपायर की उंगली उठते ही रायुडु और कप्तान धोनी को विश्वास ही नहीं हुआ कि उन्हें आउट करार दिया गया है।

खैर सीरीज में जो भी हो लेकिन तीसरे मैच में भारतीय बल्लेबाजों ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए बांग्लादेश को 317 रनों का चुनौतीपूर्ण स्कोर दिया। अब सब कुछ भारतीय गेंदबाजों पर निर्भर है कि वो बांग्लादेश को कितने रनों पर ऑलआउट कर पाते हैं और उनके 3-0 से सीरीज जीतने के मंसूबे को कब रोक पाते हैं।




 

 

No comments:

Post a Comment