Wednesday, December 18, 2013

यहां अभी भी चलता है जंगलराज …


आज मैं इलाज के सिलसिले में संडीला गया था, जोकि हरदोई जिले में पड़ता है. सौभाग्य से मेरा गाँव भी संडीला तहसील में ही है. लेकिन इस बार जब मैं संडीला गया तो शहर के हालात कुछ बदले-बदले लगे, सड़कें एकदम लकालक साफ़ थीं, हर तरफ ट्रैफिक को कंट्रोल करते पुलिसकर्मी नजर आ रहे थे, कुल मिलाकर ऐसा लग रहा रहा जैसे मैं किसी साउथ इंडिया की सिटी में आ गया हूँ, पर जैसे ही चौराहे पर पंहुंचा, लोंगों से पूंछा , और बड़े-बड़े होर्डिंग्स देखा तो पता चला ऐसा कुछ भी नही है जैसा मैं सोच रहा था दरअसल आज कसबे में यू पी के सीएम अखिलेश यादव जी के आज़म चचा आ रहे हैं. 

   यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री के स्वागत के लिए शानदार व्यवस्था की गई थी,  मेनरोड को नगरीय विकास मंत्री के स्वागत के लिए चमाचम किया गया था, रोड्स को नहलाया गया था इतना ही नहीं हमेशा गन्दी रहने वाली सड़कों के किनारे चूना भी डाला गया था ताकि खूबसूरत भी दिखें। खैर मुझे क्या मतलब मैं तो दवा लेने गया था, सो दिमाग पर जोर न देकर अपने काम से लग गया.
लेकिन जब मैं वापस आ रहा था तभी मैंने एक पटाखा फटने जैसी आवाज सुनी, पीछे मुडा तो देखा लोगों की भीड़ जमा हो रही, दरअसल किसी ने एक पल्सर बाइक सवार को गोलियों से भून दिया था. उस 35-40 साल के युवक को शरीर से सटाकर गोली मारी गई थी. वह भी वहां पर जहां से चंद कदमों की  ही दूरी पर संगीनें लिए आज़म खान के स्वागत के लिए तमाम पुलिस जाप्ता तैनात था.
  
  इस घटना से साफ़ ज़ाहिर होता है कोई कुछ भी कहे उत्तरप्रदेश में जंगलराज क़ायम है! यूपी  में बेख़ौफ़ हो चले अपराधियों को किसी का भी खौफ नही है. क्यूंकि जिस तरह से पुलिस कि मौजूदगी में इस हादसे को अंज़ाम दिया गया है पूरी कहानी साफ़ हो जाती है. वहां मौज़ूद लोगों ने बताया कि पिछले 6 माह के अंदर इस तरह की यह तीसरी वारदात है जब किसी को सरेराह गोली मारी गई हो.

 ऐसे में सवाल उठना लाज़िमी है कि एक मिनिस्टर की सुरक्षा को लेकर पुलिस कितनी सजग थी, ऐसे में कभी भी किसी हादसे को अंज़ाम दिया जा सकता था.

   ऐसे में साफ़ जाहिर होता है कि यूपी में न तो कोई कानून व्यवस्था है और न ही अपराधियों में उसका खौफ है. अखिलेश को इस बार लोगों ने बड़ी ही उम्मीद के साथ सीएम बनाया था, जिसे पूरा करने में माननीय मुख्यमंत्री जी पूरी तरह से असफल रहे हैं. 

फ़ोटो- फ़ाइल