Tuesday, October 1, 2013

बापू तुम्हे प्रणाम...


राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सम्मान में पूरा देश आज के दिन को गांधी जयंती के रूप में मनाता है। दो अक्टूबर का स्मरण आते ही दिमाग में एक ऐसे महापुरुष की छवि घूम जाती है,  जिन्होने सत्य और अहिंसा के बूते पर देश को गुलामी की जंजीरों से मुक्त कराया था। बापू के अनोखे व्यक्तित्व पर कवि की ये पंक्तियां प्रकाश डालती हैं।

    धरती पर लड़ी तूने अजब ढंग की लड़ाई
            दागी ना कहीं तोप ना बंदूक चलाई
    आंधी में भी जलती रही गांधी तेरी मशाल..
            साबरमती के संत तूने कर दिया कमाल..

    राष्ट्रपिता ने एक ऐसे बुलंद भारत का सपना का देखा था, जिसमें सभी को न्याय और सम्मान मिल सके। सबके लिए रोटी, कपड़ा, मकान, शिक्षा और ईलाज जैसी बुनियादी जरूरतों को पूरा किया जा सके। लेकिन आजादी के 66 वर्षों बाद भी लोगों की हालत में कोई खास बदलाव नहीं आया है। आम आदमी आज भी गरीबी की चक्की में पिसकर तड़प-तड़प कर दम तोड़ने को विवश है।  आज अगर गांधी जी जीवित होते तो शायद देश की ऐसी हालत देखकर शर्मसार हो जाते।

    आज गांधी जयंती है पूरे देश में लोग गांधी जी को याद कर रहे हैं। सरकारी ऑॅफिसों, कार्यालयों में तिरंगा फहराया जाता है। लेकिन क्या बापू को याद कर लेना ही काफी है ? क्या उनकी याद में फूल मालाएं चढ़ा देना सच्ची श्रद्दांजलि है ?  शायद नहीं..

    बापू की नजरों में ये सात महापाप थे, जिन्हे आज खुलकर समाज का समर्थन प्राप्त है।     आज हर कोई उनके दिखाए मार्ग पर, उनके सिद्धांतों पर चलने के बजाय ऐन-केन प्रकारेण पैसा कमाने की अंधी दौड़ में सरपट भागा जा रहा है। 

गांधी जी की नज़रों में सात महापाप
1- सिद्धांत विहीन राजनीति
2- श्रमहीन संपत्ति
3- विवेकहीन सुख
4-चरित्रहीन ज्ञान
5- नीतिहीन व्यापार
6- दयाहीन विज्ञान
7-त्यागहीन पूजा

    गांधी जी जिन्हे पाप समझते थे आज वहीं धारणाएं समाज में आकंठ धंसी हुई है। बापू ने एक साफ सुथरे समाज का ताना बाना बुना था, उसका सपना देखा था।  लेकिन आज की स्थिति बिल्कुल उसके उलट है। चारों तरफ लूट खसोट मची हुई है। हर कोई भ्रष्टाचार के दलदल में डूबा हुआ है और शायद बचे लोग डूबने को आतुर दिखाई दे रहे हैं। मानवता शब्द तो गधे के सींग की तरह गायब ही हो गया है।
ं    अगर आज हम बापू के दिखाए सदमार्ग पर हम चल सकें, उनके आदर्शों का पालन कर सकें ,,दम तोड़ती मानवता को जीवित कर सकें , तो शायद हम सही अर्थों में बापू को सच्ची श्रद्दांजलि दे पाएंगे। वरना यह पावन दिन भी महज एक छुट्टी का दिन भर बनकर रह जाएगा।